मनोज जरांगे जिद छोड़ें, दिया जा चुका है कोटा - फडणवीस मनपा के 100 स्कूलों में लगेंगे सीसीटीवी... तीन हजार सीसीटीवी लगाने की योजना ठाणे में वाघविल नाके के आसपास ब्रेक फेल होने से टैंकर से टकराई टीएमटी बस चुनाव पूर्व 13 आईएएस के तबादले... वसई में बुजुर्ग को जान से मारने की कोशिश करने वाले गिरफ्तार शिवबा प्रतिष्ठान ट्रस्ट द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती बड़े धूमधाम के साथ मनाई गई मनपा कचरे से बनाएगी पेवर ब्लॉक और टाइल्स... महालक्ष्मी और गोराई कचरा संकलन सेंटर पर शुरू होगा प्रयोग मुंबई में छात्रों का यौन उत्पीड़न करने के आरोप में बस सहायक गिरफ्तार नालासोपारा पूर्व स्थित अचोले में फ्लैट दिलाने के नाम पर ठग बाज़ ने लगाया आठ लाख का चुना ठाणे में 23 फरवरी को पानी की सप्लाई नहीं प्लास्टिक से निजात लिए डोंबिवली नगर निगम ने सुझाए उपाय बारहवीं कक्षा की परीक्षा के पहले दिन नकल के 58 मामले... मीरा रोड पूर्व में ड्रग्स के साथ नाइजीरियन गिरफ्तार

सर्तकता: कोरोना संक्रमण से बचने के लिए शरीर पर ब्लीच या मेथनॉल का छिड़काव जानलेवा

लखीसराय,  5 मई:-

कोरोना संक्रमण को लेकर लोग घरों में हैं. संक्रमण से बचने के लिए वे परेशान भी हैं. लॉकडाउन में कुछ आवश्यक कामों के लिए उनका बाहर निकलना भी जरूरी है. और ऐसे में कोरोना से बचाव के लिए वे नई नई तरकीबों के बारे में भी सोच रहे हैं. इसका कारण है कि चौकचौराहों पर होने वाली बातचीत जो सोशल मीडिया के माध्यम से मोबाइल फोन के स्क्रीन पर पहुंचने लगती है. लेकिन क्या हमने सोचा है कोरोना के संबंध में मिलने वाली सूचनाएं इतनी भ्रामक भी हो सकती है कि उससे जान को खतरा हो जाये. कोरोना संकटकाल में किसी भी जगह पर बिना पुष्टि की हुई बातें कहने से बचें. साथ ही यदि अन्य यदि कोई बात करते हैं तो उन्हें भी इसकी पुष्टि करने के लिए कहें. ऐसे में सोशल मीडिया से आने वाली कोरोना पर कई तरह की अफवाहों के मद्देनजर विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपने वेबसाइट पर जानकारी दी है.

कीटनाशक का शरीर पर छिड़काव है खतरनाक: 
कीटनाशक के छिड़काव व सेनिटाइजेशन जैसी खबरों के बाद लोगों में भ्रम है कि घर से बाहर निकलते समय शरीर पर ब्लीचिंग पाउडर या किसी अन्य कीटाणुनाशक का छिड़काव कोरोना संक्रमण को रोक सकता है. लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया है कि कीटाणुनाशक या ब्लीचिंग पाउडर का शरीर पर छिड़काव करना बहुत खतरनाक है. ये जहरीली चीजें हैं और ऐसे उपायों से कोविड 19 संक्रमण से बचाव नहीं किया जा सकता है. ध्यान रखें कि किसी भी परिस्थिति में ब्लीच या किसी अन्य कीटाणुनाशक का अपने शरीर पर स्प्रे आपकी त्वचा और आंखों को नुकसान पहुंचाता है. इससे जान भी जा सकती है. ब्लीच और कीटाणुनाशक का उपयोग सावधानीपूर्वक घर के फर्श या नाली व सतहों को कीटाणुरहित करने के लिए किया जाना चाहिए. वहीं ऐसी चीजों को बच्चों की पहुंच से भी बाहर रखें. 

ब्लीच पीने की बातें पूरी तरह गलत, जा सकती है जान:  
कई बार सही जानकारी नहीं मिलने के कारण बड़ी दुर्घटना की भी संभावना हो सकती है. लोगों में मेथनॉल, इथेनॉल या ब्लीच पीने से कोविड 19 को रोकने या ठीक होने की बतकही खतरनाक साबित हो सकती है.  मेथनॉल, इथेनॉल और ब्लीच जहर हैं और बहुत खतरनाक भी. उन्हें पीने से विकलांगता और मृत्यु हो सकती है. मेथनॉल, इथेनॉल और ब्लीच का उपयोग सतहों पर वायरस के खात्मे के लिए किया जाता है. इसका थोड़ा सा भी सेवन आपके शरीर में वायरस को नहीं मारेंगे और वे आपके आंतरिक अंगों को नुकसान पहुंचाएंगे. 

डिसइन्फेक्टेंट का सही उपयोग समझे: 
कोविड 19 से अपने आप को बचाने के लिए लोहे की वस्तुओं और फर्श या सतहों को कीटाणुरहित किया जा सकता है. खासकर उन चीजों व सतहों को जिन्हें हम नियमित रूप से स्पर्श करते हैं. इनमें दरवाजे के हैंडल ग्रिल या दूसरी अन्य चीजें जो लोहे या स्टील की बनी हो, आदि हो सकती है. ऐसे में बहुत पतला ब्लीच या अल्कोहल उपयोग किया जा सकता है. लेकिन इन तमाम बातों के साथ हमें यह भी सुनिश्चित करना है कि हम अपनी हाथों को बार-बार धो रहे हों और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का पालन कर रहें हों

रिपोर्टर

  • Metro Dinank
    Metro Dinank

    The Reporter specializes in covering a news beat, produces daily news for Metro Dinank News

    Metro Dinank

संबंधित पोस्ट